प्यार बिकता है यहां 

प्यार बिकता है भई यहाँ पर,

दाम बोलो तो लेलो,

कई तरह के है,

वो डीप लव वाला चाहिए

या फिर बस वो थोड़ा ऊपर ऊपर वाला,

और अगर कुछ अंतरंगिनिया चाहिए , 

तो समझ लो कुछ ज्यादा ही खरच हो जाएगा।

साइज भी बता दो, 

वो स्माल पाउच जो 2-3 महीने चले वो दें,

या वो 2-3 साल वाला बड़ा पाउच ।

अरे डब्बा ही चाहिए क्या ,

ये भी दो टाइप का है,

छोटा जो 5-6 साल तक बाँधे रखेगा,

और बड़ा वाला जिंदगी भर के लिए तुमसे 

पूछेगा क्यों किया ये तूने अपने साथ।

और अगर उससे भी न बने तो बताओ,

पौधा भी है,

वो मिल गया तो समझो,

प्यार से ऊपर वाले बंधन में बंध गए।

तो देखो 

गर पसंद आये कुछ दिल को 

तो प्राइस टैग पर लिखा है,

कितनी भावनाएं और आहें खर्चनी होंगी।

– अंकुर शुक्ल (5 अप्रैल 2017, दोपहर 12:40)

You can follow me here for more poems:

Instagram: @shukla_ank94 (https://www.instagram.com/shukla_ank94/?hl=en )

Facebook: @ShuklaAnk94 (https://www.facebook.com/ShuklaAnk94/ )

Youtube: https://www.youtube.com/channel/UCPq4gB4olHyJdbEZWSMKt4A

Twitter: @Shukla_ank (https://twitter.com/shukla_ank )

Blogs: https://ankshukla.wordpress.com and https://ankur0997.blogspot.in/

Advertisements

Pour your thoughts here!!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s