हिन्दी सप्ताह

“हिंदी हैं हम वतन हैं , हिन्दुस्तां हमारा ॥ ”

१४ सितंबर , हिंदी दिवस, जैसे हिंदी को लोग सिर्फ आज के दिन ही याद कर रहे हैं । ये ऊपर लिखी पंक्तियों ने सब बयां कर दिया । अब तो भारतेंदु हरिश्चंद्र जी की वो कविता याद आती है , जो हमने कक्षा छह में पढ़ी थी ;

“निज भाषा उन्नति अहै सब उन्नति को मूल । ”

अर्थात अपनी भाषा की उन्नति ही सब प्रकार की उन्नति की जड़ है । परन्तु आज के समय में अपनी इस भाषा को लोग हिंदी दिवस पर भी हिंदी दिवस की शुभकामनाएँ कहने के बजाय “Happy Hindi Divas” कह कर एक दूसरे को बधाईयाँ दे रहे हैं । अन्यथा कुछ लोग आज के दिन सिर्फ हिंदी लिखने का प्रण लेकर हिंदी का सम्मान करना चाहते हैं, जैसे भूले बिसरो को किसी एक दिन याद कर श्रद्धांजलि अर्पित करी जाती है ।

हिंदी भारत की आत्मा है । भारत में अभी भी ४० % जनसँख्या हिंदी भाषी है । पर हिंदी साहित्य इंग्लिश लिटरेचर के सामने भारत में दम तोड़ दिया है । इस पखवाड़े को हिंदी पखवाड़ा घोषित कर दिया है , पर फिर भी यह तथ्य किसी को न पता होगा , केवल हिंदी के नाम पर एक दिन स्मरण कर रहे हैं हम ।

हिंदी कितनी सुन्दर भाषा है , इसका ज्ञान उसे ही है जो उसे समझ पाया है , और समझाना तो जैसे हलवा , परन्तु आज के भारतीय पर हिंगलिश का प्रभुत्व स्थापित हो गया है । पर कुछ ही जने है शुद्ध हिंदी को बचाये हुए है , मैं तो आप सब भारतीयों से केवल एक प्राथर्ना करना चाहता हूँ कि अपनी माँ जैसी भाषा को विकसित करने के लिए एक कदम अवश्य बढ़ाएं ।

धन्यवाद !!

Advertisements

Pour your thoughts here!!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s